Monday, July 11, 2016

cm kejriwal insulted bhagwan for photo shoot-and- worshipped outside temple after ban on media inside temple

इस फोटो को आप ध्यान से देखें, केजरीवाल से हो जाएगी नफरत



























केजरीवाल वोटबैंक के चक्कर में इतना नीचे गिर सकते हैं कोई सोच भी नहीं सकता। कल केजरीवाल गुजरात के सोमनाथ मंदिर में भगवान शिव के दर्शन के लिए गए थे। केजरीवाल का कहना था कि दुष्ट शक्तियां उनके पीछे पड़ी हैं और उन्हीं दुष्ट शक्तियों से निपटने के लिए वे भगवान से आशीर्वाद मांगने आये हैं।

बता दें कि मंदिर में अव्यवस्था और भीड़ देखकर मंदिर प्रशासन ने केजरीवाल के साथ मीडिया की एंट्री पर बैन कर दिया था, इस बैन के लिए मीडिया से अधिक केजरीवाल और उनके साथी बौखला गए थे। वास्तव में बिना मीडिया कवरेज के केजरीवाल का भगवान का दर्शन अधूरा रह जाता क्योंकि उनकी मीडिया वाले उनकी भगवान की पूजा करते हुए फोटो ना खींच पाते और वीडियो रिकॉर्डिंग ना हो पाती, ऐसे ना होने पर पूरे देश के हिन्दू उन्हें एक भक्त के रूप में ना देख पाते।
वास्तव में केजरीवाल मंदिर में गए ही इसलिए थे ताकि पूरे देश के हिन्दू उन्हें भगवान का पक्का भक्त मानने लगें।
खैर मंदिर प्रशासन द्वारा मीडिया की एंट्री पर बैन लगने से केजरीवाल की चाल फेल हो गयी जिसे देखकर वे बौखला गए और अपनी आदत के अनुसार मोदी, अमित शाह और आडवानी पर आरोपों की बौछार कर दी।
मीडिया पर बैन लगने के बाद भी केजरीवाल ने हार नहीं मानी, उन्होंने सोमनाथ मंदिर के बाहर ही मंदिर बना डाला, फोटो में आप देख सकते हैं, उन्होंने एक टेबल की व्यवस्था की, थाली-परात की व्यवस्था की, एक शिवलिंग की व्यवस्था की, पूजा सामाग्री की व्यवस्था की और मंदिर के बाहर ही भगवान की पूजा करते हुए वीडियो बनवा ली और फोटो भी खिंचवा लिया, केजरीवाल की भक्त के भेष में फोटो भी सोशल मीडिया पर शेयर हुई, लोगों ने उन्हें और उनके पूरे परिवार को पक्का भक्त बताया।
सबसे आश्चर्यजनक बात यह रही कि फोटो में पूजा कराने वाले पंडितजी तो जमीन पर बैठे हैं लेकिन केजरीवाल और उनके परिवार के लोग सोफे पर बैठकर शिवलिंग पर जल चढ़ा रहा है और एक साथ फैमिली फोटो खिंचवा रहे हैं, वाह जी वाह, केजरीवाल जी तो पंडित और भगवान से भी ऊपर हो गए।
केजरीवाल ने भगवान से चालाकी तो दिखा दी लेकिन पूजा-प्रार्थना और हिन्दुओं की भावना का मजाक बना डाला, आप फोटो में देख सकते हैं, वे भगवान की पूजा करने के लिए खड़े भी नहीं हुए, उन्होंने अपने परिवार के साथ चाय की टेबल पर बैठे बैठे पूजा की और बैठे बैठे ही शिवलिंग पर जल चढ़ाया, आज तक हिन्दू भगवानो का ऐसा अपमान किसी ने भी नहीं किया होगा और ना ही भगवान की पूजा का ऐसा मजाक बनाया होगा, वह भी सिर्फ फोटो खिंचवाने के लिए।
आप फोटो में देख सकते हैं, केजरीवाल के साथ उनके घर के सदस्य भी सोफे पर बैठकर शिवलिंग पर जल चढ़ा रहे हैं, ये लोग ऐसा इसलिए कर रहे हैं ताकि सभी लोगों की फोटो साफ़ साफ़ आ जाए, आपने देखा होगा कि जब किसी का पूरा परिवार भगवान की पूजा करता है या शिवलिंग पर जल चढ़ाता है तो सभी लोग शिवलिंग को चारों तरफ से घेर लेते हैं, अगर केजरीवाल भी ऐसा करते तो कुछ लोगों की फोटो कैमरे में ना आ पाती इसलिए सभी एक एक तरफ सोफे पर बैठे बैठे ही शिवलिंग पर जल चढ़ाया और साफ़ साफ़ फोटो खिंचवाई।
क्या कोई केजरीवाल जी से ये पूछेगा कि फोटो खिंचवाने के लिए उन्होंने शिवजी का अपमान क्यों किया, अगर उन्हें टेबल पर शिवलिंग रखकर उस पर जल चढ़ाना था तो वे इतना पैसा खर्च करके गुजरात क्यों गए, दिल्ली में ही शिवलिंग खरीद लाते और टेबल पर रखकर जल चढ़ा लेते और फोटो भी खिंचवा लेते, केजरीवाल ने इतना ताम झाम सिर्फ इसलिए किया ताकि मीडिया की एंट्री पर बैन लगने के बाद मंदिर के अन्दर उनकी फोटो नहीं खींची जा सकी थी, वह मंदिर के बाहर खींची जा सके और ट्विटर पर उनकी फोटो खींची जा सके।
अब आप देखिये, फोटो खिंचवाने के बाद किस तरह से इस फोटो को सोमनाथ मंदिर के अन्दर का फोटो बताकर इसे वायरल कैसे किया गया, सभी आप समर्थकों ने इसे मंदिर के अन्दर की फोटो दिखाकर केजरीवाल को भगवान का पक्का भक्त बताया, केजरीवाल ने भी इसे रि-ट्वीट किया।

No comments:

Post a Comment